कोर्ट पेशी पर गए विचाराधीन कैदी ने खुद को मारी ब्लेड , घायल हालात में जिला अस्पताल में भर्ती

कोर्ट पेशी पर गए विचाराधीन कैदी ने खुद को मारी ब्लेड , घायल हालात में जिला अस्पताल में भर्ती

संवाददाता अरविंद सिकरवार

मुरैना जिला जेल और विवाद का चोली दामन का साथ है , पिछले दो माह से चोरी के मामले में विचारा धीन कैदी नितेश उर्फ छिंगा ने उस वक्त खुद को ब्लेड से काट कर घायल कर लिया जब वह पेशी के लिए जिला न्यायालय में गया था और न्यायालय के कैदी रूम में बंद था । इसके बाद तत्काल उसे जिला अस्पताल के कैदी वार्ड में भर्ती कराया गया । घायल कैदी ने बताया कि वह जब से जेल गया है तब से जेलर बाबू लाल शुक्ला व जेल प्रहरी चंद्रपाल के द्वारा उसे पैसों की मांग को लेकर प्रताड़ित किया जा रहा है , उसे उसके परिजनों से मिलने नही दिया जाता । लगातार पैसों की मांग के चलते वह परेशान है । बीमारी में कैदी को 5 हजार रुपये जेल प्रहरी चंद्रपाल को देने होते है यदि पैसे नही दिए जाते तो जेलर अस्पताल में भर्ती नही करता और ना ही बीमार कैदी का इलाज करवाता । कैदी नितेश के द्वारा लागये गए जेल प्रशासन पर आरोप काफी गंभीर है , ऐसा नही कि इस तरह के आरोप पहली बार लगे हो । लेकिन लगातार जेलर पर लग रहे आरोपो ने वर्तमान जेलर बाबू लाल शुक्ला की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़े किए है । शूत्रो की माने तो अभी हाल ही में जेलर बाबू लाल का ट्रांसफर होने बाला था लेकिन जेलर साहब भोपाल की सैर कर आये और तबादला रुक गया । ऐसे में अब जेल में बसूली होना भी लाजमी है !

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0