ग्वालियर में कार की सीट के नीचे से निकले इतने नोट की गिनते-गिनते थक गए पुलिसकर्मी

ग्वालियर में कार की सीट के नीचे से निकले इतने नोट की गिनते-गिनते थक गए पुलिसकर्मी

ग्वालियर। झांसी से दिल्ली जा रही एक कार को मोहनपुर टोल प्लाजा बैरियर के पास क्राइम ब्रांच ने शुक्रवार तड़के रोक लिया। पुलिस ने कार से दो करोड़ चार लाख 30 हजार रुपए बरामद किए है। रुपए कार में सीट के नीचे बनाए गए दो लॉकर से बरामद किए गए हैं। लॉकर पर ताला लगा था। नगदी बरामद होने की सूचना आयकर विभाग को भी दे दी है। इन नोटों को गिनते-गिनते 9 पुलिसकर्मी थक गए। पुलिस ने कार चला रहे बृजनंदन निवासी जुगियाना मुन्नालाल धर्मशाला के पीछे झांसी (यूपी) और राजेश ऐचरिया निवासी पंचवटी कॉलोनी झांसी (यूपी) को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने खुद को ड्राइवर बताया है। उन्होंने पुलिस को बताया कि झांसी से दिल्ली का एक चक्कर लगाने पर उन्हें खर्चे के अलावा 2-2 हजार रुपए मिलते हैं।

कार उन्हें दिल्ली पहुंचाने के लिए कल्लू कमरिया निवासी झांसी ने दी थी। आरोपित शुरुआती पूछताछ में यह नहीं बता रहे हैं कि दिल्ली में यह राशि उन्हें कहां पहुंचानी थी। एएसपी (क्राइम ब्रांच) पंकज पांड़े ने बताया कि एसपी नवनीत भसीन को कुछ दिन पूर्व सूचना मिली थी कि एक स्टेट से दूसरे स्टेट भारी मात्रा में रुपए व हथियार भेजे जा रहे हैं। यह कार ग्वालियर हाइवे से निकलती है। इस सूचना की तस्दीक के लिए भेदियों को अलर्ट किया गया।

गुरुवार रात को एसपी को सूचना मिली कि तड़के सफेद रंग की स्विफ्ट कार झांसी हाइवे की तरफ से आ रही है, जो दिल्ली की तरफ जाएगी। कार में भारी मात्रा में नगदी है। इस सूचना पर एसपी ने टीम गठित कर कार पकड़ने के लिए ग्वालियर-झांसी हाइवे पर चेकिंग प्वॉइंट लगाने के निर्देश दिए। कार का नंबर पुलिस तक पहुंच गया था।

लोहे के बॉक्स में रखी थीं 500-500 की गड्डियां

2 करोड़ 4 लाख बरामद करने के लिए क्राइम ब्रांच की टीम रातभर परेशान रही। पुलिस ने कार की डिक्की से लेकर बोनट तक खोल लिया। सीट के नीचे झांककर देख लिया पर कुछ नहीं मिला। जब कार के अंदर बिछी मैटी हटाकर देखी तो ड्राइवर सीट के पीछे लॉकर नजर आया। इसे खोलकर पुलिस ने 96 लाख 70 हजार रुपए बरामद कर लिए। टीम ने रुपए बरामद होने की सूचना एसपी को दी। जबकि सूचनाकर्ता ने पुलिस को बताया था कि कार में 2 करोड़ से अधिक का कैश है। टीम ने फिर कार को सर्च किया तो दूसरा लॉकर ड्राइवर की बगल वाली सीट के पीछे मिला। जिसका लॉक खोलकर पुलिस को 1 करोड़ 4 लाख 30 हजार रुपए बरामद कर लिए। कार को एसपी ऑफिस में स्थित क्राइम ब्रांच के थाने लाने के बाद पुलिस ने पहले दोनों लॉकर को खाली कर 500-500 की गड्डियों को एक लोहे के बॉक्स में रख ली। इसके बाद तड़के 5 बजे से 9 जवानों ने नोटों को गिनना शुरू किया। करीब 5 घंटे में जवान 2 करोड़ 1 लाख रुपए गिन पाए। टीआई (क्राइम ब्रांच) दामोदार गुप्ता ने बताया कि नोट गिनते-गिनते पूरी टीम थक गई। रात को फिर नोट गिनने वाली मशीन मंगाकर नोटों को गिना जाएगा।

पुलिस ने दोनों आरोपितों को दो दिन के रिमांड पर लिया

पकड़े गए आरोपित बृजनंदन सोनी व राजेश एरचिया निवासी झांसी को क्राइम ब्रांच ने कोर्ट में पेश किया। दोनों आरोपितों को जब्त राशि के संबंध में पूछताछ के लिए 2 दिन के रिमांड पर ले लिया है। टीआई दामोदार गुप्ता ने बताया कि दोनों आरोपित ड्राइवर हैं। कल्लू कमरिया से करोड़ों का खेल करने वाले सफेदपोश तक पहुंचा सकता है। रिमांड पर लेने के बाद दोनों आरोपितों को लेकर टीम झांसी के लिए रवाना हो गई है। कल्लू कमरिया की जानकारी निकालने के लिए एक टीम झांसी पहुंच गई है। पुलिस को कुछ दिल्ली के भी क्लू में मिले हैं। एक टीम भी दिल्ली भी जा रही है।

पहले भी झांसी-दिल्ली के चक्कर लगा चुकी है कार

पुलिस को आशंका है कि यह लेन- देन हवाला का हो सकता है। दिल्ली चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद यह राशि दिल्ली भेजी जा रही थी। पहले इस कार से कितना रुपए दिल्ली भेजा जा चुका है। इसका पता लगाने के लिए पुलिस टोल टैक्स बैरियरों का रिकॉर्ड चेक करेगी। झांसी से दिल्ली करोड़ों रुपए एक वैन के जरिए पहुंचाने की सूचना पूर्व में आधा दर्जन से अधिक बार पुलिस अधिकारियों के कानों तक पहुंच चुकी है। एक बार मुरैना-धौलपुर बॉर्डर पर इस गाड़ी को पकड़ने का प्रयास हो चुका है। लेकिन सफलता नहीं मिली। पुलिस अधिकारियों का दावा है कि इस लिंक से करोड़ों के हवाला के कारोबार का खुलासा हो सकता है।

क्या है दिल्ली व झांसी के बीच कनेक्शन

पुलिस यह पता लगा रही है कि करोड़ों रुपए का लेन-देन झांसी-दिल्ली के बीच क्यों हो रहा है। पुलिस को इस संबंध में कुछ क्लू मिले हैं। पुलिस अधिकारी इस पर होमवर्क कर रहे हैं, ताकि पूरे रैकेट तक पुलिस पहुंच सके।

कार पर ग्वालियर का नंबर

पकड़ी गई कार पर अभी ग्वालियर का रजिस्ट्रेशन नंबर अंकित हैं। शुरुआती जांच में पुलिस को पता चला है कि इस कार को सागर के किसी व्यक्ति ने खरीद लिया है। नाम व रजिस्ट्रेशन नंबर चेंज कराने के लिए आरटीओ में आवेदन कर रखा है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0