सिंधिया के गढ़ में कमलनाथ ने भरी हुंकार: कमलनाथ ने शिवराज को दी चुनौती: आमने-सामने बैठ जाएं, 26 लाख किसानों के नाम और कर्जमाफी की राशि का रिकॉर्ड मैं दूँगा।

सिंधिया के गढ़ में कमलनाथ ने भरी हुंकार: कमलनाथ ने शिवराज को दी चुनौती: आमने-सामने बैठ जाएं, 26 लाख किसानों के नाम और कर्जमाफी की राशि का रिकॉर्ड मैं दूँगा।

  • 50 साल से पहले प्रदेश की पहचान ग्वालियर से होती थी, कोई इंदौर या भोपाल की बात नहीं करता था
  • प्रेस कॉन्फ्रेंस में नहीं लिया ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम, सवाल पूछा- कुछ वर्षों से ग्वालियर-चंबल उपेक्षित क्यों रहा?
  • ये मेरी सरकार में कोरोना को डरोना बताते थे, मुझे ज्योतिष बताते थे, आज सबसे कम टेस्टिंग प्रदेश में हो रही हैं ।

ग्वालियर में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में निवेश को लेकर किसी निवेशक को विश्वास नहीं है, क्योंकि भाजपा सरकार में प्रदेश की पहचान माफिया से थी, मिलावट से थी, भ्रष्टाचार से थी। मुझ पर आज तक कोई उंगली नहीं उठा सका, मेरा राजनीतिक जीवन बेदाग है। हमने 26 लाख किसानों का कर्ज माफ किया। मैं शिवराज को चुनौती देता हूं कि आमने-सामने बैठ जाएं। मैं आपको 26 लाख किसानों के नाम, उनके गांव का नाम, माफ कर्ज की राशि का रिकॉर्ड देने को तैयार हूं।

कमलनाथ ने कहा कि मुझे इस बात का दुख है कि आज से 50 वर्ष पहले प्रदेश की पहचान ग्वालियर से होती थी। कोई इंदौर-भोपाल-जबलपुर की बात नहीं करता था। कमलनाथ ने ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम लिए बगैर कहा कि पिछले कुछ वर्षों में ग्वालियर-चंबल उपेक्षित क्यों रहा? बुनियादी सुविधाएं तक ग्वालियर को नहीं मिलीं? चाहे ग्वालियर की सड़कों की बात करें, फ्लाईओवर की बात करें, ग्वालियर क्यों उपेक्षित रहा? इसका जिम्मेदार कौन?

हमने वोट से सरकार बनाई, उन्होंने नोट से
कमलनाथ ने कहा कि ‘बाबा साहेब ने कभी सोचा नहीं होगा कि इस प्रकार की राजनीति अपने देश में होगी। सांसद-विधायक के निधन पर उपचुनाव का प्रावधान तो किया लेकिन सौदा हो जाएगा, बोली लग जाएगी और उपचुनाव होंगे, यह भी भाजपा करेगी? आज भाजपा ने संविधान और प्रजातंत्र को ही दांव पर लगा दिया। मैं जनता से अपील करता हूं कि वो संविधान की रक्षा करें, अपने भविष्य की रक्षा करें।’

शिवराज के झूठ की राजनीति बहुत हुई: कमलनाथ

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा- ‘शिवराजजी झूठ की राजनीति बहुत हो गई, अब यह चलने वाली नहीं है। मोदीजी के 20 लाख करोड़ में से किसी को 20 रुपए भी मिले क्या? ये मेरी सरकार में कोरोना को डरोना बताते थे, मुझे ज्योतिष बताते थे। आज सबसे कम टेस्टिंग मध्यप्रदेश में हो रही हैं। आज स्थिति कितनी भयावह है। जो कह रहे है कि उन्हें सीएम नहीं बनाया तो यह सभी जानते है कि विधायकों ने किसे अपना नेता चुना और किसे मात्र 18 वोट मिले? कौन सौदागर है, किसने सौदा किया, यह भी सभी जानते हैं? ‘

COMMENTS

WORDPRESS: 0