Karwa Chauth 2018 : करवा चौथ पर सुहागन स्त्रियां भूल से भी ना करें ये काम, हो सकता है पति को नुकसान

Karwa Chauth 2018 : करवा चौथ पर सुहागन स्त्रियां भूल से भी ना करें ये काम, हो सकता है पति को नुकसान

हर व्रत की तरह करवा चौथ व्रत के भी कुछ न‍ियम हैं। अगर इनका ध्‍यान न रखा जाए तो व्रत का पूरा फल प्राप्‍त नहीं होता है।

सुहागन महिलाओं का बड़ा पर्व करवा चौथ इस माह 27 अक्‍टूबर को मनाया जा रहा है। इस द‍िन शन‍िवार है। वहीं इसी द‍िन इसी दिन संकष्टी गणेश चतुर्थी होने से ये पर्व और भी शुभ हो गया है। इस द‍िन विवाहित मह‍िलाओं के लिए 16 श्रृंगार को महत्‍वपूर्ण माना गया है। इसके बाद शाम को चांद की पूजा करने के बाद मह‍िलाएं पति के हाथ से जल ग्रहण करने के बाद ही व्रत पूर्ण करती हैं। लेकिन हर व्रत की तरह करवा चौथ के भी कुछ न‍ियम हैं। अगर इनका ध्‍यान न रखा जाए तो व्रत का पूरा फल प्राप्‍त नहीं होता है।

 

करवा चौथ का व्रत अब कई मह‍िलाएं व कन्‍याएं करने लगी हैं। ऐसे में इसके न‍ियमों को ज्ञात करना आवश्‍यक है। ऐसा न हो क‍ि आप एक ओर व्रत करें और दूसरी ओर कोई भूल इस व्रत का सारा पुण्‍य भी खत्‍म कर दे। ये व्रत सुहाग से जुड़ा है, लिहाजा इससे जुड़ी चूकों पर ध्‍यान देना आवश्‍यक है। इन बातों को जानें ज्‍योतिषाचार्य सुजीत जी महाराज से।

 

करवा चौथ पर सुहागनें ना करें ये काम

  • इस दिन महिलाएं काले वस्त्र का प्रयोग मत करें। एकदम सफेद साड़ी भी नहीं पहननी चाहिए। काला रंग सुहागिन महिलाओं के लिए अशुभ फलदायी है। सफेद साड़ी भी शुभ पर्व पर सुहागिन स्त्रियां नहीं पहनती हैं।
  • इस दिन कैंची का प्रयोग मत करें। कपड़े मत काटें। अक्सर महिलाएं कपड़े काटने में कैंची का प्रयोग करती हैं। इस दिन भूलकर भी कैंची का प्रयोग ही मत करें बल्कि उसे कहीं छुपा दें ताकि वो दिखे भी नहीं।
  • सिलाई-कढ़ाई भी मत करें। व्रत के दौरान खाली समय को व्यतीत करने के लिए व्रत के दिन अक्सर महिलाएं सिलाई कढ़ाई या स्वेटर बुनने का काम करती हैं। आज के दिन ये से सभी कार्य प्रतिबंधित है।
  • इस दिन समय बिताने के लिए ताश के पत्ते मत खेलें। जुआ तो कदापि मत खेलें। अपने समय को संगीत और भजन में बिताएं।
  • किसी की निंदा मत करें। किसी की चुगली या बुराई करने से व्रत का फल नहीं मिलता।
  • दूध, दही, चावल या उजला वस्त्र दान मत करें।
  • अपने से बड़ों का निरादर मत करें।
  • पति के अलावा किसी का चिंतन किसी भी स्थिति में मत करें।
  • सुहाग की वस्तुएं कचड़े में मत फेंके।
  • श्रृंगार करते समय जो चूड़ियां टूट जाये उनको बहते जल में प्रवाहित करें न कि घर में रखें।
  • इस दिन धूम्रपान मत करें। किसी भी प्रकार का किया गया नशा व्रत के पुण्य का नाश कर देगा।
  • तामसिक भोजन मत करें।
  • पति से प्यार से बाते करें। कोई विवाद मत करें। यदि कोई विवाहित महिला सभी नियमों के पालन से निराजल व्रत भी रहती है और पति को डांटती या अपमान करती है तो उसका सारा व्रत बेकार हो जाता है।

इस प्रकार करवा चौथ एक बहुत महत्वपूर्ण त्योहार है। इस दिन का सदुपयोग करें। लाल या नारंगी, हरी, पीली साड़ी पहनें। पूरा दिन महिलाएं अपने में संगीत का आनन्द लें। सोलह श्रृंगार करें। भगवान शिव और माता पार्वती का ध्‍यान करें। अपने आपको पति के प्रेम में समर्पित करें।

COMMENTS

WORDPRESS: 0