कमलनाथ सरकार को जगाने के लिए भाजपा का ‘घंटानाद’ आंदोलन, इन मुद्दों पर आर-पार की लड़ाई

कमलनाथ सरकार को जगाने के लिए भाजपा का ‘घंटानाद’ आंदोलन, इन मुद्दों पर आर-पार की लड़ाई

भोपाल । विधानसभा चुनाव के 10 महीने बाद बतौर विपक्ष भारतीय जनता पार्टी पहली बार ‘घंटानाद” आंदोलन के जरिए कमलनाथ सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर रही है। पार्टी का दावा है कि पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था बिगड़ने से अराजकता की स्थिति है। किसान परेशान है, कर्जमाफी के नाम पर किसानों से छलावा किया गया। अब उन पर 14 फीसदी जुर्माने के साथ कर्ज के भुगतान का दबाव बनाया जा रहा है। तबादलों ने गवर्नेंस को चौपट कर दिया है। जन समस्याओं के निपटारे पर किसी का ध्यान नहीं है। इन सारे मुद्दों को लेकर भाजपा बुधवार को सड़कों पर उतरेगी।

आंदोलन के लिए हर जिले में पार्टी के बड़े नेताओं को तैनात किया गया है। भोपाल में प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह और सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर, विदिशा में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आंदोलन का नेतृत्व करेंगे। इस आंदोलन में कार्यकर्ता घंटे-घड़ियाल और झांझ -मंजीरा बजाकर सरकार को जगाएंगे। मध्यप्रदेश बचाओ-कांग्रेस सरकार भगाओ के नारे के साथ हर जिले में कलेक्ट्रेट का घेराव किया जाएगा। भोपाल में कमला पार्क तिराहे से कलेक्ट्रेट तक भाजपा कार्यकर्ता मार्च करेंगे।

पार्षदों को भी बुलाया

भाजपा ने मंगलवार को राजधानी के सारे पार्षदों को बुलाया। पार्टी सूत्रों के मुताबिक संगठन महामंत्री सुहास भगत और संभागीय संगठन मंत्री आशुतोष तिवारी द्वारा बुलाई बैठक में सभी पार्षदों से कहा गया कि वे घंटानाद आंदोलन में अनिवार्य रूप से शामिल हों, साथ ही ज्यादा से ज्यादा लोगों को भी साथ लेकर आएं। बैठक में कुछ देर के लिए प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह भी शामिल हुए। उन्होंने कहा कि आप अपने हर वार्ड के आम आदमी तक हमारे आंदोलन के उद्देश्य को पहुंचाएं। लोगों को बताएं कि किस तरह बिजली बिल से जनता परेशान है। कानून व्यवस्था पर सरकार का नियंत्रण नहीं है।

घंटानाद से जगाएंगे सरकार को : राकेश सिंह

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह ने दावा किया कि घंटानाद आंदोलन को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं में बेहद उत्साह है। इस आंदोलन में महिला, युवा, किसान सहित सभी वर्ग के लोग कलेक्टर कार्यालय का घेराव कर प्रदेश की कमलनाथ सरकार को कुंभकरणी नींद से जगाएंगे। धोखे से बनी कांग्रेस सरकार ने मात्र नौ माह में भष्टाचार के कीर्तिमान स्थापित किए हैं। झूठी कर्जमाफी, खस्ताहाल सड़कों, गायब हुई बिजली और भाजपा कार्यकर्ताओं पर झूठे मुकदमे लादे जाने के विरोध में यह आंदोलन किया जा रहा है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0