भस्म आरती में नहीं शामिल हुआ एक भी भक्त, महाकाल मंदिर में भी दिखा CORONAVIRUS का खौफ

भस्म आरती में नहीं शामिल हुआ एक भी भक्त, महाकाल मंदिर में भी दिखा CORONAVIRUS का खौफ

उज्जैन। कोरोना वायरस के खौफ से अब भक्त भी डरने लगे है. उज्जैन के महाकाल मंदिर की भस्म आरती में जहां भक्तों का ताता लगा रहता था वहीं अब Coronavirus के डर से पूरा मंदिर खाली दिखाई दिया. जिस परिसर में खड़े रहने के लिए जगह नहीं मिलती थी आज उस मंदिर परिसर में एक भी श्रद्धालु नहीं मिला. दरअसल कल ही महाकाल मंदिर समिति और मंदिर के पंडे पुजारियों ने कोरोनावायरस के खौफ के चलते निर्णय लिया था की भस्म आरती में आगामी आदेश तक श्रद्धालुओं को प्रवेश नहीं मिलेगा जिसके चलते आज पूरा मंदिर विरान दिखाई दिया।

ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में होने वाली भस्म आरती में शामिल होने के लिए श्रद्धालु देश-विदेश से रोजाना महाकाल मंदिर पहुंचते हैं. बड़ी संख्या में लाइन लगाकर 1700 से अधिक श्रद्धालु एक बार में मंदिर परिसर में बैठकर भस्म आरती में भगवान महाकाल का आशीर्वाद लेते हैं. लेकिन कल महाकाल मंदिर समिति और पंडे पुजारियों ने निर्णय लिया था कि भीड़ को इकट्ठा ना होने दें और इसी के चलते भस्म आरती  में वीआईपी और सामान्य श्रद्धालु के लिए प्रवेश निषेध कर दिया गया था।

अमूमन महाकाल मंदिर में भस्म आरती में प्रवेश के लिए देर रात 3:00 बजे से ही श्रद्धालु मंदिर के तीन नंबर गेट पर पहुंचते हैं जहां से कतार बद्ध होकर लाइन में चलते हुए नीचे गर्भ ग्रह तक पहुंचते हैं लेकिन आज मंदिर परिसर का गेट नंबर 3, मंदिर परिसर , गर्भ ग्रह , कार्तिकेय मंडपम और गणेश मंडपम सहित पूरा मंदिर विरान दिखाई दिया. किसी भी श्रद्धालु को मंदिर में अनुमति नहीं मिली और अब तक इतिहास में शायद पहली बार ऐसा हुआ हो कि भस्मारती बिना श्रद्धालुओं के हुई हो।

वहीं कुछ श्रद्धालु मंदिर परिसर के बाहर ही आरती के समय दिखाई दिए और उन्होंने बाहर एलईडी स्क्रीन पर की आरती के दर्शनों का लाभ लिया. इस मौके पर श्रद्धालुओं ने इस निर्णय को अच्छा बताया और कहा कि श्रद्धालुओं के हित में ही यह निर्णय लिया गया है और भगवान महाकाल सब की रक्षा करेंगे।

COMMENTS

WORDPRESS: 0