महेश्‍वर तहसील कार्यालय कर्मचारी 5 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार

महेश्‍वर तहसील कार्यालय कर्मचारी 5 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार

महेश्वर। जांच प्रतिवेदन जल्द प्रस्तुत करने एवज में तहसील कार्यालय में पदस्थ नायब नाजिर द्वारा निलंबित पटवारी से 10 हजार रुपए रिश्वत की मांग की जा रही थी। पटवारी ने पूर्व में पांच हजार उसे दे दिए थे। शुक्रवार को पांच हजार रुपए रिश्वत की दूसरी किस्त देते हुए आरोपित को लोकायुक्त पुलिस ने रंगे हाथ गिरफ्तार किया। यह कार्रवाई तहसील कार्यालय के कक्ष में हुई। आगे की कार्रवाई के लिए लोकायुक्त की टीम आरोपित को लेकर स्थानीय विश्राम गृह पहुंची।

लोकायुक्त इंदौर के उप पुलिस अधीक्षक प्रवीणसिंह बघेल ने बताया कि 8 जून-19 को आंधी-तूफान के कारण राहत राशि वितरण के सर्वे में लापरवाही बरतने के कारण तत्कालीन पटवारी दिनेश पाटीदार (आवेदक) को एसडीएम ने निलंबित किया था। 27 अगस्त-19 के आदेशानुसार विभागीय जांच कर महेश्वर तहसीलदार को एक माह में जांच प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के लिए निर्देशित किया गया था।

पटवारी पाटीदार से जल्दी प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के एवज में तहसील कार्यालय में पदस्थ नायब नाजिर बलिराम सोलंकी (आरोपित) द्वारा तहसीलदार के नाम से 10 हजार रुपए रिश्वत की मांग की जा रही थी। इसमें पांच हजार पूर्व में प्राप्त कर लिए गए थे। वहीं शुक्रवार को पांच हजार की रिश्वत राशि लेते हुए आरोपी को उसके कार्यालय कक्ष में ट्रेप किया गया।

आवेदक से प्राप्त रुपए को आरोपित ने कक्ष में रखी तिजोरी के ड्राज में रखा। जिसे लोकायुक्त की टीम ने जब्त किया। आगे की कार्रवाई के लिए लोकायुक्त की टीम आरोपित को लेकर विश्रामगृह पहुंची। जहां देर तक चली कार्रवाई के पश्चात आरोपी से सहमति पत्र भरवाकर उसे छोड़ दिया गया। बघेल ने बताया कि आवेदक द्वारा दी गई शिकायत में तहसीलदार की भूमिका पर भी विवेचना की जाएगी। कार्रवाई में लोकायुक्त निरीक्षक सुनील उईके, आरक्षक विजय शेलार, शैलेंद्र बघेल, कमलेश परिहार, आदित्यसिंह भदौरिया, आशीष नायडू, राकेश चौहान, शेरसिंह ठाकुर शामिल थे।

COMMENTS

WORDPRESS: 0