अंबाला एयरबेस पर पीएम मोदी और राजनाथ ने “राफेल” विमान का किया स्वागत…

अंबाला एयरबेस पर पीएम मोदी और राजनाथ ने “राफेल” विमान का किया स्वागत…

चीन के साथ विवाद के बीच भारत की ताकत को कई गुना बढ़ाने वाले राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप अंबाला एयरबेस पहुंच गई है। इन्हें रिसीव करने के लिए खुद वायुसेना अध्यक्ष एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया मौजूद हैं। वहीं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सैन्य इतिहास में एक नए युग की शुरुआत बताया। साथ ही उन्होंने भारतीय वायुसेना को इसके लिए बधाई दी।

22 साल बाद भारत को 5 नए लड़ाकू विमान मिले

बता दें कि अंबाला एयरबेस पर राफेल की अगवानी वायुसेना प्रमुख एयरचीफ मार्शल आरकेएस भदाैरिया समेत वेस्टर्न एयर कमांड के कई अधिकारियों ने की। 22 साल बाद भारत को 5 नए लड़ाकू विमान मिले हैं। इससे पहले 1997 में भारत को रूस से सुखोई मिले थे।

‘राष्ट्र की रक्षा से बड़ा कोई पुण्य नहीं….

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन राफेल विमानों का स्वागत करते हुए ट्वीट किया, ‘राष्ट्ररक्षासमं पुण्यं, राष्ट्ररक्षासमं व्रतम्, राष्ट्ररक्षासमं यज्ञो, दृष्टो नैव च नैव च। नभः स्पृशं दीप्तम्… स्वागतम्!’ इसका मतलब है ‘राष्ट्र की रक्षा से बड़ा न कोई पुण्य है, कोई न व्रत है और न ही कोई यज्ञ है। आकाश को स्पर्श करने वाले… स्वागत है।’ 

पीएम मोदी ने किया स्वागत

फ्रांस से सात हजार किलोमीटर का हवाई सफर तय करने के बाद पांच राफेल विमानों का बेड़ा आज भारत की सरजमीं पर पहुंच गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन विमानों का स्वागत संस्कृत के एक श्लोक से किया। 

खासतौर से भारतीय वायुसेना के लिए तैयार किए गए हैं राफेल विमान

राफेल लड़ाकू विमानों को खासतौर पर भारतीय वायुसेना के लिए तैयार किया गया है। इसमें भारतीय परिस्थितयों को ध्यान में रखते हुए हेल्मेट माउंटेड साइट, रडार चेतावनी रिसीवर, फ्लाइट डाटा रिकॉर्डर, इंफ्रारेड सर्च और ट्रैक सिस्टम, जैमर, उच्च ऊंचाई वाले ठिकानों से संचालन के लिए कोल्ड इंजन जैसे फीचर्स लगाए गए हैं।

COMMENTS

WORDPRESS: 0