कोरोना वारियर्स के लिए PM मोदी की ‘ताली’ बजाने की अपील का दुनिया भर में हो रहा असर

कोरोना वारियर्स के लिए PM मोदी की ‘ताली’ बजाने की अपील का दुनिया भर में हो रहा असर

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है. उन्‍होंने कहा कि जिस तरह महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता गया था, उसी तर्ज पर 21 दिन में कोरोना के खिलाफ निर्णायक युद्ध जीता जाएगा. इसलिए उन्‍होंने 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया है. इसके साथ ही उन्‍होंने आपदा की घड़ी में जंग के खिलाफ लड़ रहे कोरोना योद्धाओं के लिए लोगों से खास अपील की।

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे डॉक्‍टर्स, नर्स समेत स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं और जरूरी सुविधाएं प्रदान करने वाले लोगों के लिए अपने घरों की छतों, बालकनी से ‘ताली’ या थाली/शंख बजाकर कृतज्ञता दर्शाएं. उनके लिए प्रार्थना करें. उनका उत्‍साहवर्द्धन करें. हालांकि उनकी इस अपील का कुछ लोगों ने मजाक भी उड़ाया. आलोचना भी की. लेकिन दुनियाभर में यह अपील असर कर रही है. कई मुल्‍कों में लोग कोरोना से लड़ने वाले लोगों का ‘ताली’ बजाकर अभिनंदन कर रहे हैं।

इस फेहरिस्‍त में ताजा नाम ब्रिटेन का है. कोरोना वायरस की आपदा से ब्रिटेन जूझ रहा है. लिहाजा संकट की इस घड़ी में स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाएं से जुड़े लोगों के प्रति आभार व्‍यक्‍त करने के लिए 26 मार्च को पूरे ब्रिटेन में लोगों ने ताली बजाकर उनका अभिनंदन किया. इस कड़ी में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के साथ भारतीय मूल के वित्‍त मंत्री ऋषि सुनक ने भी 10 डाउनिंग स्‍ट्रीट के बाहर खड़े होकर तालियां बजाकर इस जंग के खिलाफ लड़ने वालों का हौसला बढ़ाया. भारत में यदि सोशल मीडिया पर ताली (Taali) यदि ट्रेंडिंग शब्‍द है तो ब्रिटेन में #clapforourcarers ट्रेंड कर रहा है।

उल्लेखनीय है कि ब्रिटेन में अब तक कोरोना वायरस 400 से ज्यादा लोगों की जान ले चुका है. जबकि 8,000 से ज्यादा लोग इसकी चपेट में हैं. यहां तक कि शाही परिवार के सदस्‍य प्रिंस चार्ल्‍स तक इसकी चपेट में हैं. ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिए सामाजिक मेलजोल कम करने की दिशा में कदम उठाए हैं. उन्होंने कैफे, पब, बार, रेस्तरां, नाइट क्लब, थिएटर, सिनेमा, जिम और खाने-पीने की जगहों को बंद करने का ऐलान किया है।

देश के नाम संबोधन में बोरिस जॉनसन ने कहा कि कोई भी प्रधानमंत्री अपने लोगों पर इस तरह का दबाव नहीं बनाना चाहता लेकिन हालात इस तरह के हैं कि उन्हें लोगों की आवाजाही को प्रतिबंधित करने और दो से अधिक लोगों के जुटने पर उनके खिलाफ कार्रवाई करने को मजबूर होना पड़ा है।

COMMENTS

WORDPRESS: 0