चुनाव नतीजों के बाद शेयर बाजार में रौनक, सेंसेक्‍स 39,150 के पार

चुनाव नतीजों के बाद शेयर बाजार में रौनक, सेंसेक्‍स 39,150 के पार

चुनावी नतीजों यानी 23 मई के दिन इतिहास रचने के बाद भारतीय शेयर बाजार ने शुक्रवार को बढ़त के साथ शुरुआत की. सप्‍ताह के आखिरी कारोबारी दिन सेंसेक्‍स 340 अंक से ज्‍यादा बढ़त के साथ 39,150 के स्‍तर पर खुला तो वहीं निफ्टी करीब 100 अंक बढ़त के साथ 11,745 के स्‍तर को पार कर गया. शुरुआती कारोबार में बैंकिंग और आईटी सेक्‍टर के शेयरों में सबसे अधिक तेजी रही।

वहीं बजाज ऑटो, ओएनजीसी, एचसीएल और एचयूएल के शेयर लाल निशान पर रहे. बता दें कि सेंसेक्स 298.82 अंक या 0.76 फीसदी के नुकसान से 38,811 अंक पर बंद हुआ. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 80.85 अंक या 0.69 फीसदी के नुकसान से 11,657.05 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्‍स-निफ्टी नए मुकाम पर

बीते कारोबारी दिन मोदी सरकार की वापसी के संकेतों के बाद सेंसेक्स रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया था. कारोबार के दौरान एक समय सेंसेक्स 40,000 अंक के स्तर को पार कर गया था. वहीं निफ्टी ने भी पहली बार 12,000 अंक के स्तर को लांघा था. हालांकि, कारोबार के अंतिम दौर में मुनाफावसूली का सिलसिला चलने से बाजार नुकसान के साथ बंद हुआ।

चुनावी नतीजों के दिन शेयरों का हाल

चुनावी नतीजों के दिन सेंसेक्स की कंपनियों में इंडसइंड बैंक 5.23 फीसदी चढ़ गया. वहीं हीरो मोटोकॉर्प, कोल इंडिया, यस बैंक, पावर ग्रिड, आईसीआईसीआई बैंक, एचसीएल टेक, कोटक बैंक और भारती एयरटेल के शेयर 1.56 फीसदी तक चढ़ गए. इसके अलावा वेदांता, आईटीसी, टाटा मोटर्स, एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी, बजाज फाइनेंस, सनफार्मा, टाटा स्टील, टीसीएस, ओएनजीसी और इन्फोसिस में 5.53 फीसदी तक का नुकसान रहा।

क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट

विशेषज्ञों का कहना है कि अब सरकार सुधारों, आर्थिक वृद्धि, मानसून के अलावा अमेरिका-चीन व्यापार विवाद से जुड़े घटनाक्रमों पर ध्यान केंद्रित करेगी. एचडीएफसी सिक्योरिटीज के एमडी धीरज रेली ने कहा कि चुनाव नतीजों के बाद उम्मीद बंधी है कि अर्थव्यवस्था के समक्ष मुद्दों से अब मजबूती से निपटा जा सकेगा. दुनिया के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि जीएसटी को लागू करने वाली सरकार सत्ता में वापस लौटी है।

5 साल में 75.25 लाख करोड़ बढ़ी पूंजी

नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के 2014 में सत्ता में आने के बाद देश के शेयर बाजार के निवेशकों की पूंजी 75.25 लाख करोड़ रुपये बढ़ी है. इस दौरान बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 61 फीसदी चढ़ा है. शेयर बाजार के 16 मई, 2014 से 23 मई 2019 की तारीख तक के विश्लेषण से पता चलता है कि इस दौरान सेंसेक्स 60.89 फीसदी या 14,689.65 अंक चढ़ा है।

बता दें कि 16 मई, 2014 से 23 मई, 2019 के दौरान बंबई शेयर बाजार की सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) 75 लाख करोड़ रुपये बढ़कर 150.25 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया. बृहस्पतिवार को कारोबार बंद होने के समय बंबई शेयर बाजार की सूचीबद्ध कंपनियों का मार्केट कैप 1,50,25,175.49 करोड़ रुपये रहा।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0